समाचार 

सोमवार को मनेगा देशभर में रक्षाबंधन, राखी बांधने को 2.47 घंटे का समय

सावन शुक्ला पूर्णिमा सोमवार को साल का पहला खंडग्रास चंद्रग्रहण पड़ेगा। सोमवार होने के कारण शास्त्रों में इसे चूड़ामणि चंद्रग्रहण कहा गया है। इसका सूतक सोमवार दोपहर 1.55 से लग जाएगा। इससे पहले ही राखी बांधने का सही समय है। ज्योतिषाचार्य पीतांबर प्रसाद शर्मा ने बताया कि भद्रा और सूतक के बीच राखी बांधने का करीब 2 घंटे 47 मिनट का समय मिलेगा। शुक्ल पूर्णिमा पर आने वाले इस त्योहार पर इस बार भद्रा और चंद्र ग्रहण रहेगा। यह ग्रहण श्रवण नक्षत्र एवं मकर राशि में हो रहा है। रक्षाबंधन पर सूर्योदय से सुबह 11.05 बजे तक भद्रा रहेगी। ग्रहण का आरंभ सोमवार रात को 10.53 मिनट पर होगा, जिसके 9 घंटे पहले सूतक लग जाएगा। यानी दोपहर 1 बजकर 53 मिनट पर सूतक लग जाएगा। ग्रहण 10.53 से अद्र्धरात्रि 12 बजकर 48 तक रहेगा। ग्रहण का कुल समय 1 घंटे 55 मिनट रहेगा। राखी बांधने का समय 11.05 बजे से लेकर 1.53 मिनट रहेगा, सूतक काल में रखी नहीं बांधी जा सकेगी।
यहां दिखाई देगा ग्रहण
यह ग्रहण भारत के अलावा एशिया महाद्वीप, आॅस्ट्रेलिया, यूरोप, अफ्रीका, दक्षिणी अमेरिका का पश्चिमी हिस्सा हिंद महासागर में दिखाई देगा। ग्रहण से प्राकृतिक प्रकोप, पर्वतीय भागों में विशेष कष्ट होने , राजनीति में मनमुटाव बढ़ने, फसल में हानि, अतिवृष्टि होने चावल, तेल धान के भाव में बढ़ोतरी की आशंका है। राशियोंके प्रभाव : मेष,सिंह, वृश्चिक मीन के लिए श्रेष्ठ रहेगा। शेष राशियों के लिए कष्टकारक रहेगा।
चाइना की राखियों की बिक्री घटी
राखी के त्योहार पर देशप्रेम का भी नजर आया। बाजार में सजी राखियों की दुकानों से चीनी राखियां लगभग गायब हैं। यदि किसी दुकानों में लगी भी हैं तो बहनें उसे खरीदना कम पसंद कर रहीं हैं। ऐसा भारत और चीन के बीच हाल ही में पनपे सीमा विवाद और चीन के रुख को लेकर सोशल मीडिया पर चीनी सामान का विरोध के चलते ऐसा हुआ है। शहर के पुरोहितजी का कटला, सेठी कॉम्पलेक्स, नाहरगढ़ रोड, त्रिपोलिया बाजार में राखियों की थोक बिक्री तथा दड़ा मार्केट, खजाने वाले का रास्ता, पुरोहितजी का कटला में फुटकर बिक्री हो रही है।
सोने-चांदी की राखी होगी ठाकुरजी के अर्पित
भाई-बहन के असीम प्यार का साक्षी रक्षाबंधन का पर्व सोमवार को पूरे उल्लास होगा। ज्यादातर बहनों ने राखियां खरीद कर पूजा की थाली सजा ली है। मंदिरों में भी रक्षा बंधन महापर्व मनाने की तैयारियां हो गई हैं। भक्तगण ठाकुरजी को सोने की राखी अर्पित करेंगे। गोविंददेवजी, गोपीनाथजी, गणेश जी और अन्य मंदिरों में श्रद्धालुओं को डोरा राखी बांटी जाएगी।
सोमवार को खंडग्रास चंद्र ग्रहण के कारण शहर के ज्यादातर मंदिरों के पट खुले रहेंगे। इस दौरान मंदिर में संकीर्तन होगा। गोविंददेवजी मंदिर में ग्रहण के दौरान रात्रि 10.45 से मध्य रात्रि 12.48 बजे तक विशेष दर्शन होंगे। ग्वाल झांकी से शयन झांकी तक प्रसादी भंडार बंद रहेगा। गलताजी में पीठाधीश्वर अवधेशाचार्य महाराज के सान्निध्य में पूर्ववर्ती आचार्यों का राखी वंदन कर ठाकुरजी को राखी बांधी जाएगी।
इसके बाद श्रद्धालु पीठाधीश्वर अवधेशाचार्य महाराज के राखी बांधेंगे। बड़ी चौपड़ स्थित लक्ष्मीनारायण बाईजी मंदिर में महामंडलेश्वर पुरुषोत्तम भारती के सान्निध्य में ठाकुरजी को सोने-चांदी की राखी बांधी जाएगी। पानों का दरीबा स्थित सरस निकुंज में शुक संप्रदाय पीठाधीश्वर अलबेली माधुरी शरण महाराज के सान्निध्य में रक्षाबंधन पर ठाकुरजी राधा सरस बिहारी सरकार जू का अभिषेक पदगायन होगा तथा राखी बांधी जाएगी। श्रद्धालु शुक संप्रदाय पीठाधीश्वर अलबेली माधुरी शरण महाराज के रक्षाबंधन करेंगे।

सौजंय Dainik Bhaskar

Related News

Leave a Comment